हस्तोसत्ताहनासन विधि, लाभ और सावधानियां

हस्तोसत्ताहनासन योग क्या है?

जानते हैं हस्तोसत्ताहनासन का अर्थ क्या है ?  ‘हस्तत’ का अर्थ होता है हाथ और ‘उत्ताून’ का अर्थ होता है ऊपर की ओर तानना। इस आसन में हाथों को ऊपर की ओर ताना अर्थात् फैलाया जाता है। इसीलिए इस आसन का नाम हस्तोात्तातनासन है। हस्तोसत्ताहनासन खड़े होकर करने वाले योगाओं में एक महत्वपूर्ण योग है। यह योगाभ्यास आपके पुरे शरीर में खिंचाव लेकर आता है और आपके मांशपेशियों को तंदुरुस्त रखता है। यह किडनी और  शरीर से वजन कम करने के लिए  भी बहुत प्रभावी योगाभ्यास है। इसके विधि और लाभ जानने के साथ साथ आप इसके सावधानियां के बारे में भी जानेंगे।shankh-prakshalan-steps-benefits-precaution

 

हस्तोसत्ताहनासन योग विधि

अब आप को बताया जायेगा कि हस्तोसत्ताहनासन को कैसे क्या जाए जिससे आपको ज़्यदा से ज़्यदा इसका फायदा मिल सके। योग से लाभ ज़्यदा पाने के लिए इसके स्टेप्स को सही तरीके से करना बहुत जरूरी है। तो  जानिए हस्तोसत्ताहनासन करने की सरल विधि।

तरीका

  • सबसे पहले आप पैर आपस में जोड़कर जमीन पर खड़े हो जाएं।
  • आप ताड़ासन में भी खड़े हो सकते हैं।
  • सांस लेते हुए हाथों को सिर के ऊपर ले जाएं और अंगुलियों को आपस में जोड़ लें।
  • ध्यान रहे आपके हाथ आपके सिर से सटा होना चाहिए। ऐसा होने पर उदर के बगल वाले भाग में आप ज़्यदा खिंचाव महसूस करेंगे और साथ ही साथ आपको लाभ भी अधिक मिलेगा।
  • सांस छोड़ते हुए कमर से बाईं ओर झुक जाएं।
  • कुछ समय इसी मुद्रा में रहें और धीरे धीरे सांस लें और धीरे धीरे सांस छोड़े।
  • फिर सांस लेते हुए वापस अपनी पहली अवस्था में आ जाएं।
  • इसी प्रक्रिया को दाईं ओर से दोहराएं।
  • यह एक चक्र हुआ।
  • इस तरह से आप पहले पहले तीन चक्र करें और फिर धीरे धीरे इसको बढ़ाते जाएं।

 

हस्तोसत्ताहनासन योग के लाभ

अगर आप इस योगाभ्यास को वैज्ञानिक दृष्टि से करें तो इससे आपको बहुत सारे फायदे मिल सकते हैं। ऊपर बताया गया तरीका बहुत हद तक वैज्ञानिक है।

  1. वजन घटाने के लिए: हस्तोसत्ताहनासन पेट के बगल की चर्बी को घटाने के लिए बहुत ही उम्दा योगाभ्यास है। शर्त है की आसन को कुछ समय तक मेन्टेन करनी चाहिए।
  2. मोटापा कम  करने के लिए: यह आपके शरीर से मोटापा कम करने के लिए एक प्रभावी आसन है क्योंकि इसमें पैर की अंगुली से लेकर हाथ की अंगुली तक खिंचाव आता है।  अधिक अच्छा रिजल्ट पाने के लिए जरूरत है इस मुद्रा को कुछ समय तक बनाये रखना।
  3. किडनी स्वस्थ के लिए: अगर योग विशेषज्ञ की बातों को माना जाए तो यह खड़े होकर करने वाले योगाभ्यास आपके किडनी में एक अलग तरह का हलचल लेकर आती  है और किडनी को विभिन्य परेशानियों से बचाता है।
  4. पीठ दर्द: पीठ दर्द से परेशान रहने वालों के लिए यह एक अच्छा योगाभ्यास है।
  5. गर्दन दर्द: आपको गर्दन दर्द से भी राहत पहुंचाता है।
  6. रीढ़ को मजबूत बनाना: अगर आप अपने रीढ़ की हड्डी को मजबूत एवं लचीला बनाना चाहते हैं तो इस योग मुद्रा का नियमित रूप से अभ्यास करें।
  7. बच्चों की हाइट बढ़ाने के लिए: अगर आपकी उम्र  20 साल से कम हो तो इस योगाभ्यास का नियमित रूप से प्रैक्टिस करने पर आपकी लंबाई बढ़ सकती है।
  8. कमर को पतली करता है: यह कमर से अतरिक्त फैट (वसा) को कम करने के लिए एक उत्तम योगाभ्यास है। यह कूल्हों  और नितंबों पर जमी चर्बी को कम करता है।
  9. छाती चौड़ा करने में सहायक: यह आपके छाती को चौड़ा करते हुए फेफड़े को मजबूत बनाता है।
  10. कब्ज को कम करना: यह कब्ज और पाचन संबंधी परेशानियों को भी कम करता है।

 

हस्तोसत्ताहनासन योग के सावधानियां

  • कमर दर्द में इसका अभ्यास न करें।
  • पीठ दर्द में भी इसका अभ्यास नहीं करनी चाहिए
  • हो सके तो इसको अभ्यास पहले किसी योग विशेषज्ञ के सामने करें
  • योगाभ्यास करते समय स्थिरता का ध्यान रखें।

Recommended Articles:

Leave a Reply