सर्दी जुकाम से तुरंत राहत पाने के लिए घरेलू उपाय

सर्दी जुकाम कैसे होता है ?

वैसे तो सर्दी-जुकाम कोई बड़ी बीमारी नहीं है लेकिन परेशान करने के मामले में यह दूसरी बीमारीयों से कम भी नहीं है। अगर इस बीमारी को लेकर आप डॉक्टर के पास जाए तो डॉक्टर दवाई कम और आराम करने की सलाह ज़्यदा देता है। यह वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण है जिसमें आप बुखार से भी परेशान रहते हैं। यही नहीं यह एक ऐसी संक्रमण हैं जो आसानी से आपके परिवार के लोगों में फैल जाता है। यह प्रायः तीन से सात दिन तक रहता है जिसमें आपको भूख की चाहत बहुत कम हो जाती है जिसके कारण आप कमजोर हो जाते हैं। अगर प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत न हो तो आप दूसरे बिमारियों से भी मुब्तला हो सकते हैं। यहां हम आपको बताएंगे कि घरेलू उपाय से आप किस तरह सर्दी-जुकाम से आसानी से राहत पा सकते हैं। आपको बाहर कहीं जाने कि जरूरत नही बल्कि आपके घर एवं किचन में ही इतना सारा प्राकृतिक व् आयुर्वेदिक सामान उपलब्ध है जो खाँसी, सर्दी-जुकाम, बुखार एवं छींक से आपको बहुत हद तक महफूज रख सकता है।
turmeric-for-viral-fever

सर्दी जुकाम के 13 घरेलू उपाय

 

  1. हल्दी: अगर हल्दी को दुध के साथ मिला कर लिया जाए तो सर्दी-जुकाम से छुटकारा पाने के लिए यह रामबाण का काम करता है। विधि: दुध (२०० ग्राम ) उबालें और इसमें हल्दी (१ चम्मच)  मिलाएं। और इसे धीरे धीरे पीते रहें।
  2. लहसुन की चटनी: लहसुन के चटनी सर्दी-जुकाम से निजात दिलाने के लिए एक कारगर प्राकृतिक उपचार है क्योंकि यह एंटी बैक्टीरियल पदार्थों से भरापरा है। विधि: लहसुन (100 ग्राम), थोड़ी सी नमक और सरसों का तेल लें। लहसुन को छील लें।  अब आप तीनों को फ्राई पैन में डालें और गर्म करें। थोड़ा बहुत गर्म हो जाए तो इसे अच्छी तरह से मिलाएं और खाने के साथ खाएं।  यह सर्दी-जुकाम, खाँसी, कफ और बुखार से आपको फटाफट राहत दिलाता है।
  3. तुलसी का पत्ता: सर्दी-जुकाम का  बेहतरीन इलाज छिपा हुआ है तुलसी के पत्ते में। विधि: आप तुलसी (5 पत्ते ), अदरख (१ चम्मच) और इसे  आधा लीटर पानी में उबालें। जब यह उबल कर आधा हो जाये तो इसे पीएं।  यह सर्दी-जुकाम और ख़राश  के लिए एक सटीक आयुर्वेदिक इलाज है।
  4. नींबू  और शहद: नींबू  और शहद का मिश्रण लगातार पिने से आप सर्दी और जुकाम जैसी समस्याओं से दूर रहते हैं।  विधि:  सबसे पहले आप एक गिलास पानी को गुन गुना गर्म करें।  फिर उसमें एक चम्मच नींबू  और एक चम्मच शहद डाले। इसको अच्छी तरह से मिलाएं और फिर धीरे धीरे पियें।
  5. अदरख की चाय: अदरख की चाय सर्दी-जुकाम के लिए बहुत ही उम्दा चीज है। यह आपको सर्दी-जुकाम से ही राहत नही देता बल्कि बुखार को भी कण्ट्रोल करता है और साथ ही साथ आपको सुस्त होने से रोकता है। विधि: सबसे पहले आप पानी को उबाले। फिर उसमें पीसा हुआ अदरख, दुध और अपने हिसाब से चीनी मिलायें।  कुछ देर तक इसे गर्म करें और फिर इसे धीरे धीरे पियें।
  6. कालीमिर्च और मिश्री: काली मिर्च और मिश्री सर्दी, जुकाम, खाँसी  को ठीक करने के लिए एक बहुत बेहतरीन घरेलू इलाज है। विधि: सबसे पहले काली मिर्च (10 ) एवं  मिश्री  (1चम्मच) को अच्छी तरह से पीस लें और इसको एक गिलास गर्म दुध में मिलाएं और फिर इसको धीरे धीरे पीते रहें।
  7.  इलाइची: इलाइची सर्दी-जुकाम से बचाने के लिए एक प्रभावी घरेलू नुस्खा है।  विधि: 3  से 5 इलाइची लें। इसको अच्छी तरह से पीस लें और इसके लेप को किसी रुमाल में लगा कर सूँघते रहें।
  8. नमक पानी: नमक पानी का गरगरा करने से आप का गला वायरल एवं बैक्टीरियल संक्रमण से महफूज़ रहता है। विधि: आप एक गिलास पानी लें और उसमें नामक घोल लें और फिर इससे गार्गल करें।  यह आप दिन में तीन बार करें।  गले के संक्रमण को ठीक करने के लिए यह बहुत प्रभावी इलाज है।
  9. ग्रीन चाय: ग्रीन चाय का सेवन करें।  इसमें विभिन्य प्रकार के बायो केमिकल पदार्थ पाया जाता है जो आपको सर्दी, जुकाम , खाँसी, खराश आदि से आपको बचाता है। विधि: ग्रीन चाय का सेवन आप सुबह-शाम दो बार कर सकते हैं।
  10. दाल चीनी और जायफल: दाल चीनी और जायफल का पीसा हुआ पदार्थ को चाटने से सर्दी, जुकाम, नाक बंद, बदन दर्द एयर कफ में बहुत अधिक राहत मिलती है।  विधि: सबसे पहले आप दाल चीनी और जायफल को अच्छी तरह से पीस लें और इसको सुबह एवम शाम चाटते  रहें।
  11. अजवाइन: अजवाइन भी आप को सर्दी, कफ एवम जुकाम से निजात दिलाने में बहुत ज़्यदा प्रभावी है। विधि: आप आधा चम्मच अजवाइन मुहँ में रखें और पानी के साथ इसको  निगल जाएं।  इस प्रक्रिया को आप सुबह शाम करें।
  12. हरी मिर्च:  एक हरी मिर्च और थोड़ा सा सेंधा नमक को पीस लें।  हो सके तो इसको रोटी से खाएं।  इसके खाने के साथ ही आखों से पानी आने लगता है और आपके के गले से बलगम एवं कफ निकलने लगता है और आप अच्छा महसूस करने लगते हैं।
  13. हींग: हींग भी एक उम्दा इलाज है।  विधि: हींग का घोल बनाएं और इसको दिन में तीन से चार बार  गर्म करने के बाद सूंघते रहें।  यह आपके छाती के कफ को निकलने में मदद करता है।  हींग के घोल को तलवे, हाथ एवं गले में लगाएं। यह आपके शरीर को गर्म रखता है और सर्दी-जुकाम से बचाता है।

Recommended Articles:

Leave a Reply