जानिए मयूरासन करने का आसान तरीका

मयूरासन क्या है ?

मयूर का अर्थ होता है मोर और क्योंकि इस आसन में शरीर की आकृति बहुत हद तक मोर के समान प्रतीत होती है। इसलिए इस आसन को मयूरासन कहा गया है। मयूरासन स्वास्थ्य के लिए बहुत उम्दा आसन है। अगर शरीर के लिए और खासकर पेट से संबंधित बीमारियों के लिए बहुत ही लाभदायक योगाभ्यास है। अगर शरीर से विष या टॉक्सिन्स को निकालना हो तो इससे अच्छा और कोई दूसरा योगाभ्यास नही हो सकता। किन्तु यहां पर हम इसके फायदे के बारे में जिक्र नही करेंगे बल्कि इस आसन को विभिन्य तरीके से कैसे किया जाये उसके बारे में बताएंगे ताकि इसका ज़्यदा से ज़्यदा लाभ मिले।How to do Mayurasana

मयूरासन करने की विधि

यहाँ पर आपको मयूरासन करने की सरल विधि बताई जा रही है जिसके मदद से इसको आप आसानी से इस योगाभयास का प्रैक्टिस कर सकते हैं।

  • सबसे पहले आप वज्रासन में बैठ जाए।
  • अब आप घुटनों को फैलाएं तथा उन्हें जमीन पर रखते हुए घुटनों के बल बैठ जाएं।
  • आगे की ओर झुकें और अपने हाथों की अंगुलियां को फैलाएं
  • अब अंगुलियों को पैरों की दिशा में रखते हुए हथेलियों को जमीन पर टिका लें।
  • कोहनियां को मोड़ें जिसे बांहों के ऊपरी हिस्से के पिछले भाग पर टिकाएं।
  • दोनों पैरों को फैलाएं।
  • पैरों को एक साथ रखते हुए बहुत सावधानीपूर्वक धीरे-धीरे आगे की ओर बढ़ें।
  • शरीर के भार को हाथों तथा कलाइयों का सहारा देते हुए पांवों को जमीन से उठा लें।
  • और कोशिश करते हैं कि आपकी शरीर एक सीध में हो।
  • जहाँ तक संभव हो इस अवस्था को बनाये रखें।
  • सिर नीचे करते हुए वापस आएं घुटनों को जमीन पर रखें एवं पांव को नीचे ले आएं।
  • यह एक चक्र हुआ। इस तरह आप पांच चक्र करें

मयूरासन विधि 2

इसमें आप ऊपर दिए गए स्टेप्स का अनुसरण करें।
शरीर के भार को हाथों तथा कलाइयों का सहारा देते हुए अपने पैरों को यथासम्भव जमीन से ऊपर उठाए।

मयूरासन विधि 3
इसमें आप ऊपर दिए गए स्टेप्स का अनुसरण करें।
बस ध्यान रहे इसमें आप मुठी बांध कर हाथों तथा कलाइयों का सहारा लेते हुए अपने पैरों को जमीन के समांतर रखते हैं।

मयूरासन विधि 4
इसमें सबसे ऊपर दिए गए स्टेप्स का अनुसरण करते हैं।
यहाँ पैरों को फैलाने के बजाय पद्मासन में बनाते हुए उठते हैं और अपने शरीर को जमीन के समांतर रखते हैं।

Recommended Articles:

One Response

  1. Avatar for Admin Xaria May 18, 2017

Leave a Reply