सूर्य नमस्कार विधि, लाभ और सावधानियाँ

सूर्य नमस्कार क्या है: What is Surya Namaskar

सूर्य नमस्कार एक ऐसी योग प्रक्रिया है जिसका अभ्यास करने से पुरे शरीर के अंग, कोशिकाएं, मांशपेशियां को लाभ पहुँचता है और साथ ही साथ पुरे शरीर को ऊर्जावान बनाये रखता है। सूर्य नमस्कार एक संस्कृत नाम है जहाँ सूर्य से तात्पर्य सूर्य और नमस्कार का अर्थ है ‘प्रणाम’। सूर्य नमस्कार को हम लोगों तक पहुंचाने का काम वैदिक युग के जाने माने ऋषियों का है। योग में, सूर्य का प्रतिनिधित्व पिंगला या सूर्य नाड़ी द्वारा किया जाता है, जो प्राणिक चलन है, जो प्राण शक्ति प्रदान करता है। सूर्य नमस्कार का शरीर की सौर ऊर्जा पर सीधा प्रभाव पड़ता है जो पिंगला नाडी से होकर बहती है। सूर्य नमस्कार का नियमित अभ्यास पिंगला नाडी को नियंत्रित करता है। सूर्य नमस्कार शरीर के सभी जोड़ों, मांसपेशियों और आंतरिक अंगों को ढीला करने, खींचने, मालिश करने और उन्हें टोन करने का एक प्रभावी तरीका है। आज हम यहां पर सूर्य नमस्कार की विधि, फायदे और सावधानी के बारे में जानेंगे।

Surya Namaskar steps and benefits
Surya Namaskar

सूर्य नमस्कार करने की आसान विधि: How to do Surya Namaskar

सूर्य नमस्कार के एक चक्र में 20 मुद्राएं होती हैं, वे हैंः

  • मुद्रा 1:  पूर्व की ओर, जहां से सूरज उदय होता है, उस दिशा में हाथ जोड़कर खड़े हों।
  • मुद्रा 2:  धीरे धीरे बाहों को सीधें उठाएं तथा धड़ की ओर ले जाएं, कमर से कंधों की ओर, पीछे, जहां तक सम्भव हो।
  • मुद्रा 3: फिर बाहों को आगे की ओर लाएं और धीरे धीरे नीचे ले जाएं, ताकि पैरो की ओर से जमीन को छू लें जबकि सिर घुटनों को छूना चाहिए। घुटने सीधे होने चाहिएं।
  • मुद्रा 4: खड़ें हो, बिना किसी मोड़ के बायां पैर पीछे की ओर ले जाएं जबकि वक्षस्थल को न फुलाएं।
  • मुद्रा 5: हाथों को नीचे लाते हुए जमीन को छुएं, पैरों को पीछे ले जाएं जबकि नितम्ब जितना उठ सके उतना उठाएं तथा पूरे शरीर को स्थिर रखें।
  • मुद्रा 6: अब पूरे शरीर को जमीन की ओर ढकेलते हुए उसे जमीन के पास तथा समानान्तर लाएं। इस स्थिति में माथा, दोनों हथेलियां, वक्षस्थल, घुटनें तथा अंगूठें जमीन को छूना चाहिएं।
  • मुद्रा 7: पूरे शरीर को हाथों व पैरों पर सम्भालते हुए, शरीर के ऊपरी हिस्से को ऊपर व पीछे की ओर उठाएं तथा वक्षस्थल को बढ़ाएं व पीछे देंखें।
  • मुद्रा 8: मुद्रा 5 की जैसी मुद्रा को दोहराएं।
  •  मुद्रा 9: मुद्रा 4 की जैसी मुद्रा को दोहराएं।
  • मुद्रा 10: मुद्रा 3 की जैसी मुद्रा को दोहराएं।
  • मुद्रा 11: मुद्रा 2 की जैसी मुद्रा को दोहराएं।
  • मुद्रा 12: नमस्कार स्थिति की आरम्भिक स्थिति में वापस आएं। देखें चित्र सं.1

सूर्य नमस्कार के उपरान्त शवासन में आराम करना जरूरी हैं।

 

सूर्य नमस्कार की सावधानियां : Surya Namaskar contraindications

निम्न कंडीशंस में सूर्य नमस्कार नहीं करनी चाहिए।

  • उच्च रक्तचाप
  • कोरोनरी धमनी रोग
  • स्ट्रोक
  • हर्निया
  • आंतों के तपेदिक
  • मासिक धर्म की शुरुआत दौर

 

सूर्य नमस्कार के अद्भुत फायदे : Wonder benefits of Suryanamaskar

  1. सौंदर्य, स्वस्थ और चमकती हुई त्वचा के लिए सूर्य नमस्कार बहुत लाभकारी है। सूर्य नमस्कार खूबसूरत त्वचा और गोरा रंग पाने का एक प्रभावी योग प्रक्रिया है। यह अभ्यास त्वचा के माध्यम से अपशिष्ट उत्पादों की पर्याप्त मात्रा में निकालने में सक्षम है जिससे यह फुंसियों और फोड़े को रोकता है।
  2. सूर्य नमस्कार में कई ऐसे योग हैं जो खोपड़ी क्षेत्र में रक्त परिसंचरण को बढ़ाते हैं। पर्वतासन, पादहस्तासन जैसे योग व्यायाम सिर क्षेत्र में रक्त की आपूर्ति को बढ़ाते हैं और साथ ही साथ खोपड़ी का मालिश भी करता है जिससे बालों के गिरने और बालों के भूरे होने की रोकथाम में लाभ होता है।
  3. शरीर के वजन को कम करने के लिए सूर्य नमस्कार एक प्रभावी प्रक्रिया है। यह पेट की चर्बी को कम करने और सपाट पेट के लिए अच्छा है। इस मॉड्यूल के सभी योग पोज़ में पूरे शरीर को पर्याप्त स्ट्रेचिंग, ट्विस्टिंग और कंप्रेसिंग की सुविधा प्रदान करते हैं और इस तरह वजन घटाने के लिए उपयोगी मॉडल है। यह उन लोगों के लिए एक अद्भुत अभ्यास है जो वजन घटाने के लिए तरस रहे हैं।
  4. इसका अभ्यास पाचन तंत्र को बेहतर मालिश प्रदान करता है और इसे कुशलता से काम करने के लिए प्रोत्साहित करता है। इस मॉड्यूल के नियमित अभ्यास से एलिमेंटरी कैनाल के कई रोगों और विकारों को हटाने और रोकने में मदद मिलती है। यह आंतों के पेरिस्टलसिस को उत्तेजित करता है और शरीर से अपशिष्ट उत्पादों को निकालता है।
  5. यह किडनी की मालिश करता है, रक्त की आपूर्ति बढ़ाता है और साथ ही पूरे शरीर में रक्त के संचार को गति देता है। इसका नियमित अभ्यास गुर्दे को कुशलता से काम करने के लिए प्रोत्साहित करता है।
  6. सूर्य नमस्कार ह्रदय के लिए पूरे परिसंचरण तंत्र का काम करता है। यह शरीर से अपशिष्ट उत्पादों को हटाने के लिए अच्छा है और कुशल मानव हृदय कार्य सुनिश्चित करता है। शरीर के सभी कोशिकाओं और ऊतकों को ताजा ऑक्सीजन और पोषक तत्व प्राप्त कराने में मदद करता है।
  7. इस मॉड्यूल का अभ्यास फेफड़ों और श्वसन प्रणाली के इष्टतम उपयोग में मदद करता है। यह फेफड़ों के वायु थैली या वायुकोशिका को उचित रूप से फैलता है और सिकोड़ता है, कीटाणुओं के निर्माण को रोकता है और श्वसन प्रणाली के कई रोगों को रोकता है।
  8. सूर्य नमस्कार विभिन्न अंतःस्रावी ग्रंथियों की किसी भी अनियमितता को दूर करने में मदद करता है
  9. तंत्रिकाओं का बेहतर स्वास्थ्य प्रदान करता हुए अंगों और मांसपेशियों के कुशल काम को निर्धारित करता है। सूर्य नमस्कार इन सभी मांसपेशियों और नसों को टोन करता है और मस्तिष्क केंद्रों को जागृत करता है।
  10. यह शरीर की सभी मांसपेशियों को सक्रिय करता है और पूरे शरीर को गहन खिंचाव प्रदान करता है। मांसपेशियों का विस्तार और संकुचन गुर्दे और फेफड़ों को अशुद्ध रक्त के पुनर्निर्देशन में मदद करता है।

Recommended Articles:

Share on:

Leave a Comment