प्रसार पदोत्तानासन योग विधि, लाभ और सावधानी

प्रसार पदोत्तानासन क्या है -What is Prasarita Padottanasana  in Hindi?

प्रसार पदोत्तानासन को प्रसारित पादोत्तानासन कहा जाता है। यह एक संस्कृत शब्द है जिसे अंग्रेजी में Prasarita Padottanasana के नाम से जाना जाता है।  Prasarita Padottanasana को अगर अंग्रेजी में उच्चारण क्या जाए तो  (Prah-sah-REET-ah- Pah-doh-tahn-AA-SUN-aa) होगा।  यह एक वाइड-लेग्ड फॉरवर्ड बेंड है जो पैरों, पीठ के लिए एक गहरा खिंचाव प्रदान करते हुए मस्तिष्क में खून की फ्लो को बढ़ाता है।  इस योग का नाम संस्कृत के शब्द प्रसारिता से लिया गया है, जिसका अर्थ है फैला हुआ, पाद, जिसका अर्थ है पैर, उट, जिसका अर्थ है तीव्र, तन, जिसका अर्थ खिंचाव या विस्तार करना है, और आसन, जिसका अर्थ है मुद्रा। यहां पर हम इस मुद्रा के बारे में विस्तृत से बताएंगे। और साथ ही साथ इसके लाभ और सावधानी के बारे में भी चर्चा करेंगे।

प्रसार पदोत्तानासन योग विधि, लाभ और सावधानी
Prasita Padottanasana

प्रसार पदोत्तानासन विधि -Prasarita Padottanasana steps in Hindi

यहां पर हम प्रसारित पादोत्तानासन को कैसे सही तरीके से क्या जाए उसके बारे में जिक्र करेगें।

  • सबसे पहले आप ताड़ासन में खड़े हो जाएं और अपने पैरों को 3-4 फीट के साथ अलग रखें।
  • ध्यान रहे कि आपके पैर समानांतर हैं।
  • श्वास लेते हुए, अपनी भुजाओं को अपनी कमर के पास  लाएं और दिए गए चित्र की तरह अपने हाथ को एडजस्ट करें
  • साँस छोड़ें और धीरे धीरे अपने धड़ और सिर को आगे जमीन की ओर लेकर आएं।
  • अपने कूल्हे जोड़ों से आगे की ओर झुकाएँ, रीढ़ की हड्डी को सीधा रखते हुए।
  • आपके जांघों को सीधा करें, अपने क्वाड्रिसेप्स को सक्रिय करें।
  • इस पोज़ में कुछ देर तक बने रहें।
  • धीरे धीरे साँस लें और धीरे धीरे सांस छोड़े।
  • फिर सांस लेते हुए आपने सिर और शरीर को ऊपर उठाएं।

 

प्रसारित पादोत्तानासन के लाभ-Prasarita Padottanasana benefits in Hindi

  • यह योग आपके पैरों को मजबूत प्रदान करने के लिए एक निहायत ही लाभदायक योगाभ्यास है।
  • अगर इसका अभ्यास सही तरीके से क्या जाए रीढ़ की हड्डी को लंबा करने में मदद करता है।
  • हैमस्ट्रिंग को फैलाता है।
  • पेट को मजबूत करता है।
  • मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है।
  • चूँकि यह आपके ब्रेन में खून की प्रवाह को ज़्यदा कर देता है और यहां  पर सही ऑक्सीजन की पूर्ति करता है जिससे बालो के लिए लाभदायक है।
  • यह आपके मेमोरी को भी बढ़ाने में मदद करता है।
  • यह आसन आपके चेहरे की खूबसूरती बढ़ाने में सहायक है। इसके प्रैक्टिस से फेस  एरिया में ऑक्सीजन की सप्लाई अधिक हो जाती है जिसके कारण आप पिम्पल, आदि से बच सकते हैं।

 

प्रसार पदोत्तानासन सावधानी- Prasarita Padottanasana precautions in Hindi

  • अगर पीठ में दर्द हो तो इस आसन का अभ्यास न करें।
  • घुटने दर्द में इसके अभ्यास से बचें।
  • जिनके पैर कमजोर हो उनको सावधानी के साथ प्रैक्टिस करनी चाहिए।
  • अगर हर्निया की शिकायत हो तो इस आसन का अभ्यास न करें।

 

प्रसारित पादोत्तानासन Preparatory योग

  • बालासन
  • उत्तानासन
  • अर्ध चक्रासन
  • अधो मुख संवासना
  • जानू शिरासन
  • पश्चिमोत्तानासन
  • त्रिकोणासन

 

प्रसारित पादोत्तानासन Follow up योग

 

 

 

Recommended Articles:

Leave a Comment