आयुष मंत्रालय ने शुरू किया कॉमन योग प्रोटोकॉल वालंटियर ट्रेनिंग कोर्स

आयुष मंत्रालय का कॉमन योग प्रोटोकॉल वालंटियर ट्रेनिंग कोर्स आप ऑनलाइन सिख सकते है। यह कोर्स सुबह और शाम दोनों समय होता है जो आप आयुष मंत्रालय के फेसबुक में जाकर सिख सकते हैं। सुबह का कोर्स टाइम 7. 00 से 8.30  का है जबकि शाम का टाइम 6.00 बजे से 7.30 का है। इसमें आप 100 रुपया देकर इस कोर्स का सर्टिफिकेट ले सकते है।

इस कोर्स का रजिस्ट्रेशन आप योग प्रमाणन बोर्ड (Yoga Certification Board ) के वेबसाइट में जा कर कर सकते हैं।

 

कार्यक्रम के उद्देश्यों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • जनता के बीच योग के ज्ञान और कौशल को फैलाने के लिए
  • योग के स्वास्थ्य लाभों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए
  • आम लोगों के लिए आम योग प्रोटोकॉल के बुनियादी कल्याण सिद्धांतों और प्रथाओं को पेश करना
  • योग के माध्यम से सकारात्मक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए
  • समग्र स्वास्थ्य के दृष्टिकोण के रूप में निवारक प्रथाओं के लिए योग का प्रचार करना

कॉमन योग प्रोटोकॉल वालंटियर ट्रेनिंग कोर्स के चार स्तर  है और इसकी कुल अवधि 36 घंटे का है।

  • योग अभियान कार्यक्रम (Yoga Appreciation Programme)  की अवधि 3 घंटे का है। (प्रतिदिन 45 मिनट) और इसको 4 दिन में पूरा किया जायेगा
  • कॉमन योग प्रोटोकॉल – परिचय कार्यक्रम 12 दिन  का है जिसमें कुल 8 घंटे है। (रोजाना 1.5 घंटे)
  • कॉमन योग प्रोटोकॉल-योग साधना 6 दिन का है जिसमें कुल 9 घंटे हैं। (रोजाना 1.5 घंटे)
  • कॉमन योग प्रोटोकॉल-सेल्फ प्रैक्टिस, असेसमेंट और सर्टिफिकेशन 2 दिन का है जिसमें कुल 6 घंटे हैं।

आयुष मंत्रालय कॉमन योग प्रोटोकॉल के अभ्यास की स्वीकृति और  इसको बड़े पैमाने पर अपनाने के लिए देश विदेश में कई कदम उठा रहा है। ऐसा ही एक कदम है कॉमन योग प्रोटोकॉल (CYP) प्रशिक्षण कार्यक्रम। आयुष मंत्रालय के अनुसार कई मायनों में कॉमन योग प्रोटोकॉल, योग दिवस की आत्मा है क्योंकि यह लाखों लोगों के बीच सामंजस्य स्थापित करता है।

कॉमन योग प्रोटोकॉल को प्रमुख योग गुरुओं और प्रख्यात विशेषज्ञों की एक टीम द्वारा विकसित किया गया था, जिसमें जनता के शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए सुरक्षित अभ्यास शामिल हैं।

यह दुनिया भर में सबसे लोकप्रिय योग कार्यक्रमों में से एक है और हर साल 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर व्यापक रूप से किया जाता है। यह ज्यादातर लोगों द्वारा आसानी से अपनाने योग्य बनाया जाता है,

 

Recommended Articles:

Share on:

Leave a Comment