कलौंजी के 15 स्वास्थ्य लाभ और औषधीय गुण

कलौंजी तेल के चमत्कारी फ़ायदे

शायद वह कोई ऐसी बीमारी नही है जिसमें कलौंजी तेल का इस्तेमाल न किया जा सके।

कलौंजी के 15 स्वास्थ्य लाभ और औषधीय गुण

  1. कलौंजी तेल बालों को झड़ने से बचाता है: नींबू के रस को अपने सिर पर मालिश करें और 20 मिनट के लिए छोड़ दें। हर्बल शैंपू से धो लें। जब बाल शुष्क हो जाये तो कलोंजी तेल का उपयोग करें। बाल गिरने की रोकथाम में सकारात्मक परिणाम प्राप्त करने के लिए 15 दिनों के लिए जारी रखें।
  2. मधुमेह रोकथाम के लिए कलौंजी तेल: कलौंजी तेल डायबिटीज की रोकथाम के लिए बहुत उपयोग और फ़ायदेमंद है। सबसे पहले काली चाय (1कप) और कलौंजी तेल (½ चम्मच ) का एक मिश्रण तैयार करें। यह सुबह और बिस्तर पर जाने से पहले इस मिश्रण को लें । एक माह के भीतर सकारत्मक परिणाम आने लगेंगे।
  3. पिम्पल्स हटाने के लिए कलौंजी तेल: मीठे नीबू का रस (1 कप) और कलौंजी तेल (आधा चम्मच) के संयोजन से एक मिश्रण बनाए। सुबह और रात में बिस्तर पर जाने से पहले चेहरे पर लगाएं । यह त्वचा की चमक को बढ़ाता है तथा पिम्पल्स और किसी अन्य काले धब्बों से बचाता है। सिरका (1 कप) और कलौंजी तेल (आधा चम्मच) का मिश्रण सुबह और बिस्तर पर जाने से पहले चहरे पर लगाये। इस से सफ़ेद या काले धब्बे को रोका जा सकता है।
  4. मेमोरी बढ़ाने के लिए कलौंजी तेल: स्मरण शक्ति को कलौंजी तेल की मदद से बढ़ाया जा सकता है। यह मस्तिष्क की शक्ति और एकाग्रता बढ़ाने के लिए भी उपयोगी है। पुदीने की पत्तियां (10 ग्राम) ले, इसे पानी में गर्म करे उसके बाद कलौंजी तेल (आधा चम्मच) मिलाये। अच्छे रिजल्ट के लिए इस मिश्रण को दिन में दो बार 20-25 दिनों तक इस्तेमाल करते रहें।
  5. कलौंजी तेल सिरदर्द के उपचार के लिए: सिरदर्द कलौंजी तेल के मसाज से ठीक किया जा सकता है। सिरदर्द को कम करने के लिए माथे पर कलौंजी तेल का मसाज करना चाहिए। सिरदर्द के इलाज के लिए इस तेल को कान के पास भी रगड़ा जा सकता है। सिरदर्द को कम करने के लिए कलौंजी तेल (आधा चम्मच) दिन में दो बार पिये, बहुत लाभकारी सिद्ध होगा। नियमित रूप से कलौंजी तेल के लेने से माइग्रेन का इलाज करने में भी सहायक है।
  6. अस्थमा के उपचार के लिए कलौंजी तेल: दमा और सांस की समस्याओं के इलाज के लिए गर्म पानी (1कप), शहद (1 चम्मच) और कलौंजी तेल (आधा चम्मच) के मिश्रण अस्थमा के घरेलू उपचार के रूप में लिया जा सकता है। इसे आप दिन में दो बार ले सकते है। ऊपर बताई गयी सामग्री खांसी और एलर्जी के इलाज में भी फायदेमंद है।
  7. दिल की बीमारी के लिए कलौंजी तेल: कलौंजी तेल और बकरी के दूध के मिश्रण को स्वस्थ दिल और दिल का दौरा पड़ने की रोकथाम के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। मिश्रण अनुपात बकरी का दूध (1 कप) और कलौंजी तेल (आधा चम्मच) में हो। इस मिश्रण को एक सप्ताह तक जारी रखा जाना चाहिए।
  8. वजन घटायें कलौंजी तेल से: मोटापा कम करने के आसान उपाए में कलोंजी को अपनाया जा सकता है। इसके लिए कलौंजी तेल (आधा चम्मच) और हनी (2 चम्मच) के मिश्रण को गुनगुने पानी के साथ लिया जा सकता है। इस मिश्रण को एक दिन में तीन बार लिया जा सकता है।
  9. चेहरा सुंदर बनाए कलौंजी तेल से : ओलिव तेल (50 ग्राम) और कलौंजी तेल (50 ग्राम) का मिश्रण तैयार करे। नाश्ते से पहले इस मिश्रण के ½ चम्मच ले। यह आपकी त्वचा को चमक दमक बनाने में मददगार साबित होगी। ताजगी और सौंदर्य पाने के लिए इस फार्मूला को एक सप्ताह तक जारी रखें।
  10. अम्लता (एसिडिटी) के लिए कलौंजी तेल: अदरक का रस (1 चम्मच) और कलौंजी तेल (आधा चम्मच) के मिश्रण को नमक और पानी के साथ लिया जाता है। यह अम्लता (एसिडिटी) और गैस्ट्रिक इलाज के प्राकृतिक उपाय के रूप में लिया जा सकता है।
  11. कलौंजी तेल पेट दर्द के लिए: इसका तेल पेट दर्द को कम करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पेट दर्द से राहत पाने के लिए कलौंजी तेल (आधा चम्मच), काला नमक और गर्म पानी (आधा ग्लास) लेने से बहुत हद तक पेट के दर्द का इलाज किया जा सकता है। बेहतर परिणाम के लिए दिन में दो या तीन बार इस मिश्रण को पीते रहे।

 

Recommended Articles:

2 Comments

  1. Avatar for Tanvi kailas saraogi November 14, 2016
  2. Avatar for Tanvi Mukesh solanki January 10, 2018

Leave a Reply