एलोवेरा के फायदे, उपयोग और नुकसान

एलोवेरा क्या है ? Aloe Vera in hindi

एलोवेरा को वंडर प्लांट के रूप में जाना जाता है क्योंकि इसके कई चिकित्सा और वैज्ञानिक लाभ हैं। खासकर एलोवेरा के पत्तियों का महत्त्व बहुत ज्यादा है क्योंकि इससे उत्पन्न जेल चिकित्सीय उपयोगों और गुणों से भरपूर है। एलोवेरा का इस्तेमाल त्वचा, बाल और चेहरे में बहुत लोकप्रिय है। साथ ही साथ यह वजन घटाने के लिए भी अहम रोल निभाता है। कॉस्मेटिक, खाद्य और पेय उद्योगों में इसका इस्तेमाल होने के कारण बिज़नेस के दुनिया में इसका बहुत ज्यादा ही महत्त्व है। एलोवेरा के इन आश्यर्यचकित लाभ के लिए इसे औषधीय हर्बल की दुनिया में एक अद्वितीय पौधा माना है।

एलोवेरा के फायदे, उपयोग और नुकसान
एलोवेरा

एलोवेरा का क्या क्या अद्भुत फायदे है? Aloe Vera benefits in hindi

  1. चेहरे की चमक: एलोवेरा, मैदा और शहद के पेस्ट को चेहरे पर लगाने से स्किन को ग्लोइंग और चमकदार बनाने में मदद मिलती है। यह पिम्पल्स को हटाने में भी मदद करता है।
  2. बालों का झड़ना: एलोवेरा में एक बायो-केमिकल पदार्थ पाया जाता है जिसे प्रोटीयोलाइटिक एंजाइम कहा जाता है जो हेड के डेड सेल्स की रिपेयरिंग में मदद करता है। एलोवेरा जेल बालों की कंडीशनिंग और चमक लाने में भी मदद देता है।
  3. दांतों का स्वास्थ्य: एलोवेरा दांतों और मसूड़ों के स्वास्थ्य के लिए काफी प्रभावी है। इसमें दांतों की कैविटी को रोकने के लिए अनोखे गुण होते हैं।
  4. कब्ज: अगर आप कब्ज से मुब्तला हैं तो एलोवेरा जेल के 50 मिलीग्राम दिन में एक बार लें और 10 दिनों तक लेते रहें।
  5. एंटीऑक्सिडेंट: इसमें मेथनॉल और दूसरे एंटीऑक्सिडेंट्स भरपूर मात्रा होता है बैक्टीरिया के खिलाफ काफी प्रभावी है।
  6. एजिंग को रोकने में: एलोवेरा का रस अल्ट्रा वायलेट किरणों से त्वचा की रक्षा करता है और सही तरीके से इसका सेवन आपको जवान रखने में मदद करता है।
  7. डिटॉक्सीफिकेशन: ऐलोवेरा शरीर की डिटॉक्सीफिकेशन की प्रक्रिया में अहम रोले निभाता है और विषैले पदार्थों को बाहर निकालता है।
  8. खून की नहीं होगी कमी: इसके जूस को खाली पेट पीने से RBC की संख्या बढ़ने लगती है और इस तरह से यह शरीर में ख़ून की कमी होने से रोकता है।
  9. भूख को बढ़ाता है: ऐलोवेरा का जूस आपके पेट करने में रामबाण की तरह है। अगर पेट साफ है तो भूख लगना स्वभावी है।
  10. वजन कम करने में: इसका रेगुलर इस्तेमाल करने से आप अपने फैट को कम कर सकते हैं और साथ ही साथ वजन का भी प्रबंधन किया जा सकता है।

 

एलोवेरा का उपयोग।Aloe Vera uses in hindi

एलोवेरा कहाँ कहाँ इस्तेमाल किया जाता है। इसके बारे में कुछ विवरण नीचे दिया गया है।

  • कॉस्मेटिक
  • ब्यूटी प्रोडक्ट्स
  • खाद्य उत्पाद
  • हर्बल उपचार
  • कृषि
  • औषधीय उत्पाद
  • डेकोरेटिव
  • बेवरेज
  • त्वचा का लोशन
  • ऑइंटमेंट

 

ऐलोवेरा के सेवन से नुकसानAloe Vera disadvantages in hindi

  1. डायरिया: ऐलोवेरा में एन्थ्राक्विनोन नामक एक केमिकल पदार्थ पाया जाता है जो आपको डायरिया से ग्रसित कर सकता है।
  2. पेट दर्द: ऐलोवेरा में मौजूद लेटेक्स कोलाइटिस, एपेंडीसिटीस, आंतों की बीमारी, रक्त स्राव, पेट दर्द और अल्सर जैसी समस्याएं पैदा कर सकती है।
  3. एलर्जी: एलोवेरा के रस से एलर्जी भी हो सकती है। ऐलोवेरा के सेवन से त्वचा पर दाने, खुजली इत्यादि हो सकती है।
  4. प्रेगनेंसी: गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को ऐलोवेरा के जूस का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे गर्भाशय के संकुचन का खतरा रहता है।
  5. ह्रदय स्वास्थ : ज्यादा ऐलोवेरा रस का सेवन एड्रेनालाईन उत्पन्न कर सकता है जो दिल के मरीजों के लिए ठीक नहीं है।
  6. कोलोरेक्टल कैंसर: इसका ज्यादा सेवन करने से कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।
  7. किडनी: एलोवेरा का रस अधिक मात्रा में लेने से गुर्दे को नुकसान हो सकता है।
  8. कमजोरी: इसका नियमित सेवन करने से शरीर में पोटेशयम कि मात्रा कम हो सकता हैजिससे दिल की धड़कन बढ़ सकती है और आदमी में कमजोरी का एहसास हो सकता है।
  9. मसल्स की कमजोरी: इसमें बायो-केमिकल पदार्थ लैटेक्स पाया जाता है जो आपके मांस-पेशियों को कमजोर कर सकता है। इसलिए एक्सपर्ट की सलाह लेना जरूरी है।
  10. इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम: अगर आप इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम से ग्रसित हैं तो एलोवेरा जूस का सेवन न करें क्योंकि इस जूस में मौजूद लैक्सेटिव आपकी IBS कि शिकायत को और बढ़ा सकता है. इससे पेट दर्द और लूज मोशन की परेशानी बढ़ सकता है।

Recommended Articles:

Share on:

Leave a Comment