सैथली आसान विधि, लाभ और सावधानी: Saithalyasana Steps, Benefits And Contraindication

सैथली आसान का अर्थ क्या है: Saithalyasana meaning in Hindi

सैथली आसान एक ऐसी योग है जिसकी समानता बहुत कुछ  बिल्लियों और कुत्तों से मिलती जुलती है। ये जानवर जब भी अपने शरीर के नीचे अपने पिछले पैरों को मोड़ना पसंद करते हैं और अपने सामने के पैरों को बाहर की ओर बढ़ाते हैं और अक्सर अपने सिर को अपने फैलाए हुए पैरों के बीच रखते हैं। ऐसा वे आराम और शांत करने के लिए करते हैं। इसलिए, सैथली आसान तनाव-ख़त्म करने, चिंता और खुद को शांत और शांत करने के लिए जाना जाता है। इस आसन को ध्यान के लिए भी जाना जाता है।

सैथली आसान विधि, लाभ और सावधानी: Saithalyasana Steps, Benefits And Contraindication
Saithalyasana

सैथली आसान करने की विधि: Saithalyasana steps in Hindi

  • सबसे पहले, शरीर के सामने पैरों को बाहर की ओर फैलाते योग मैट में बैठें।
  • दाहिने पैर को मोड़ें और दाएं पैर के एकमात्र हिस्से को बाईं जांघ के अंदर रखें ताकि पूरा दाहिना पैर फर्श पर टिका रहे।
  • बाएं पैर को शरीर के बाहर की तरफ मोड़ें ताकि पैर बाएं नितंब के बगल में रहे।
  • अपने हाथों को दाहिने टखने के पास रखें।
  • अब, श्वास लें, धीरे-धीरे अपनी बाहों को ऊपर की ओर उठाएं।
  • साँस छोड़ते हुए, धीरे-धीरे दाहिने घुटने पर आगे की ओर झुकें, और माथे को दाहिने घुटने से छूने की कोशिश करें।
  • यह अंतिम स्थिति है। धीरे-धीरे और गहरी सांस लें।
  • अपने हिसाब से स्थिति को बनाए रखें।

 

सैथली आसान में श्वास: Saithalyasana breathing in Hindi

  • श्वास को शरीर शरीर के गतिरोध के हिसाब से सिंक्रनाइज़ किया जाना चाहिए।
  • जब आप इस आसन को अच्छी तरह करने लगे तो अपनी आँखें बंद रखें, और शरीर पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करें।
  • अंतिम स्थिति में, धीरे-धीरे श्वास लें और छोड़ें।
  • आसन करते समय, शरीर के अंगों पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करें, जहाँ पर आप खिंचाव, कंप्रेसिंग, और विश्राम का अनुभव कर रहे हैं।

 

सैथली आसान के लाभ: Saithalyasana benefits in Hindi

वैसे तो सैथली आसान के बहुत सारे फायदे हैं। यहां पर कुछ महत्वपूर्ण लाभ के बारे में बताया जा रहा है।

  1. यह पैरों को उपयुक्त खिंचाव प्रदान करता है, इस प्रकार पैरों की मजबूती के लिए अच्छा योग है।
  2. यह रीढ़ की हड्डी के स्तंभ, पीठ और गर्दन के क्षेत्र को कोमलता प्रदान करने में मदद करता है।
  3. इस आसन का अभ्यास करने से उदर क्षेत्र में संपीड़न सुनिश्चित होता है जिससे रुकावट और रक्त का अशुद्धिकरण होता है, जिससे आंतरिक अंगों की कार्यक्षमता को बढ़ावा मिलता है।
  4. यह हिप जॉइंट के स्वास्थ्य के लिए अच्छा है।
  5. यह तंत्रिका तंत्र के सुचारू संचालन में मदद करता है।
  6. यह उचित रूप से श्रोणि को मजबूत बनाता है और इस प्रकार श्रोणि की मजबूती के लिए अच्छा है।
  7. यह कब्ज को दूर करने में मदद करता है।
  8. यह हृदय और फेफड़ों को उचित ऑक्सीजन प्रदान करता है जिससे इन अंगों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा है।
  9. यह आसन ध्यान के लिए उपयुक्त है।
  10. योग मुद्रा के उचित उपयोग से गैस्ट्रिक रस का स्राव करने में मदद मिलती है जिससे पाचन क्रिया सुचारू होती है।

 

सैथली आसान के कन्ट्राइंडिकेशन: Saithalyasana contraindications in Hindi

यह निम्नलिखित कंडीशंस में नहीं किया जाना चाहिए:

  • पीठ दर्द
  • घुटने के दर्द
  • पेट में चोट

Recommended Articles:

Share on:

Leave a Comment