बाबा रामदेव के 5 योग त्वचा की सुंदरता बढ़ाने के लिए

अगर आप अपनी शरीर एवं त्वचा की ख़ूबसूरती चाहते हैं तो आपको शारीरिक तौर पर स्वस्थ होना बहुत जरूरी है। खूबसूरत त्वचा, काले चमकीले बाल तथा गोरा बदन पाने के लिए आप योग करें। अच्छे स्वास्थ्य तथा सौंदर्य को प्राप्त करने के लिए योग आपको बहुत हद तक फायदा पहुंचा सकता है। सुंदर त्वचा तथा चमकीले बालों के लिए प्राणायाम अत्यधिक लाभदायक है। यहां पर हम बाबा रामदेव द्वारा बताये गए कुछ योग जैसे शीर्षासन, कपालभाति, अनुलोम विलोम प्राणायाम तथा सूर्य नमस्कार का जिक्र करेंगे जो आंतरिक तथा बाहरी सौंदर्य को निखारने में अहम भूमिका अदा करते हैं।

बाबा रामदेव के 5 योग त्वचा की सुंदरता बढ़ाने के लिए -Baba Ramdev 5 Yoga for Beauty in Hindi
Sarvangasana

खूबसूरत त्वचा के लिए बाबा रामदेव के 5 योग – Baba Ramdev Yoga for beauty in Hindi

  1. सूर्य नमस्कार एक ऐसी यौगिक प्रक्रिया जो शरीर को स्वस्थ रखते हुए त्वचा की सुंदरता बढ़ाने में अहम रोल अदा करता है। सूर्य नमस्कार खूबसूरत त्वचा और गोरा रंग पाने का एक प्रभावी साधन है। इसके अभ्यास से शरीर से हानिकारक उत्पादों पर्याप्त मात्रा में बहार निकलता है। इसके अभ्यास से पसीना बहुत अधिक मात्रा में निकलता है, जो त्वचा के माध्यम से संचित विषाक्त पदार्थों को हटाने को सुनिश्चित करता है, इस प्रकार फुंसियों और फोड़े को रोकता है। इस तरह से त्वचा के रंग को निखारने में सहायक है। सूर्य नमस्कार सिर क्षेत्र में रक्त परिसंचरण को बढ़ाता हैं तथा इसकी मालिश भी करता हैं जिससे बालों के गिरने और बालों के भूरे होने की रोकथाम में लाभदायक है। इस मॉड्यूल के सभी योग पोज़ में पूरे शरीर को पर्याप्त स्ट्रेचिंग, ट्विस्टिंग और कंप्रेसिंग मिलती है जिससे वजन कम करने में सहायक है

  2. अगर आप कपालभाति का नियमित अभ्यास करते हैं तो आपको कॉस्मेटिक की जरूरत नहीं पड़ेगी। इससे त्वचा में अपने आप निखार आने लगता है। इसके अभ्यास से आखों के नीचे कालापण कम होता है। अगर आपको अपना वजन कम करना है तो कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास जरूर करें। मोटापे को कम करने में भी बहुत कारगर है। साथ ही साथ पेट की चर्बी को कम करने के लिए यह निहायत ही उम्दा योगाभ्यास है। यह पेट की चर्बी को ही कम नहीं करता बल्कि शरीर से टॉक्सिन को निकालने में भी मदद करता है। यह बालों के झड़ना रोकने और बालों को सफेद होने से बचाता है।

  3. अनुलोम विलोम प्राणायाम को योग में अमृत कहा गया है। इस प्राणायाम के अभ्यास से नाड़ी (तंत्रिका) की सारी अशुद्धियां शुद्ध हो जाती हैं और इससे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में मदद मिलती है। चिंता एवं तनाव को कम करने के लिए यह रामबाण है। यह ऊर्जा प्रवाह करने वाले तंत्र को शुद्ध करने में मदद करता है। हमारे शरीर की हर एक कोशिका को कार्य करने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन उपलब्ध करता है। शरीर से कार्बन डाइऑक्साइड और दूसरे विषैले गैसों को निकलने में मदद करता है। इस तरह से पुरे शरीर एवं त्वचा को खूबसूरत बनाने में अहम रोल निभाता है।

  4. सर्वांगासन बालों के झड़ने को रोकता है और रक्त की आपूर्ति के साथसाथ सिर क्षेत्र में पोषक तत्वों को बढ़ाता है जिससे बालों का झड़ना, बालों का गिरना और बालों का समय से पहले झड़ना रुक जाता है। यह शरीर में मेटाबोलिज्म कार्यों को सुचारू करता है और वजन को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह ईएनटी क्षेत्र में रक्त परिसंचरण को तेज करता है जो दृष्टि के लिए अच्छा है। यह रक्त से विषाक्त पदार्थों और अन्य अपशिष्ट उत्पादों को हटाने में मदद करता है और इस प्रकार त्वचा से संबंधित कई बीमारियों को रोकता है। यह झुर्रियों, पिंपल्स और बढ़ती उम्र को रोकता है। यह माथे क्षेत्र को पर्याप्त रक्त की आपूर्ति की सुविधा प्रदान करता है जिससे चेहरे की समस्याओं का समाधान अच्छी तरह लाता है।

  5. शीर्षासन के नियमित अभ्यास से चेहरे की त्वचा की स्थिति में सुधार होता है। पिम्पल और झुर्रियाँ जो प्राय अपशिष्ट पदार्थों के अपर्याप्त हटाने और रक्त से अपर्याप्त पोषण के कारण होते हैं, यहां पर शीर्षासन आपको एक नई दिशा देखा सकता है। इसके अभ्यास से त्वचा को रक्त के साथ साथ ऑक्सीजन अच्छी पूर्ति हो जाती है जिससे चेहरे की रंगत में सुधार आता है। बालों का झड़ना, बालों का सफेद होना और गंजापन अक्सर सिर में ब्लड सर्कुलेशन खराब होने के कारण होता है। शीर्षासन के अभ्यास से इसमें बहुत फायदा मिलता है

सुन्दर त्वचा के लिए 10 डाइट -10 diets for skin beauty in Hindi

  1. फैटी फिश

  2. अवोकैडोस

  3. अखरोट

  4. सनफ्लॉवर सीड्स

  5. स्वीट पोटैटो

  6. लाल पेप्पेर्स

  7. ब्रोक्कोली

  8. टमाटर

  9. सोया

  10. डार्क चॉकलेट

Recommended Articles:

Share on:

Leave a Comment