पांच आसान योग आपको रखेगा चुस्त और दुरुस्त

आजकल के भाग दौर की जिंदगी में हर दिन घंटों एक्सरसाइज या योग करना संभव नहीं है। लेकिन बीमारियों से दूर एवं फिट रहने के लिए आपको एक्सरसाइज या योग करना निहायत ही जरूरी है। यहां पर आपको पांच सरल योग के बारे में बताया जा रहा है जिसका नियमित अभ्यास से आप अपने आपको चुस्त एवं दुरुस्त रख सकते है और बहुत सारी बीमारियों से आपने आपको बचा सकते हैं। हम आपको पांच सरल योग जिसमें आसन, प्राणायाम और ध्यान का मॉडल है बताने जा रहे हैं जो आपको तरो ताजा तो रखेगा ही और साथ ही साथ एक होलिस्टिक जीवन भी देने में प्रभावी होगा

 

5 योग चुस्त और तरो ताजगी के लिए

 

ताड़ासन शरीर को सुडौल एवं खूबसूरत बनाता है

ताड़ासन एक ऐसा योगासन है जो योगाभ्यास के शुरु करने के पहले किया जाता है। ताड़ासन शरीर को लचीला बनाता है और शरीर को कड़क होने से बचाता है। इस आसन अभ्यास से मांशपेशी ही नही बल्कि सुक्ष्म मांसपेशियां में भी जान आ जाती है। यह शरीर को सुडौल बनाता है और अतरिक्त चर्बी पिघालने में मदद करता है। लेकिन शर्त है कि आप इसको किस तरह से प्रैक्टिस करते है। ताड़ासन के सही प्रैक्टिस एवं विधि के लिए यहां पढ़े।

ताड़ासन के लाभ

  • वजन कम करने के लिए
  • हाइट बढ़ाने के लिए
  • पीठ की दर्द
  • नसों एवं मांसपेशियों की दर्द
  • घुटने की दर्द से राहत
  • एकाग्रता और संतुलन
  • पैरों को मजबूती देता है
  • सायटिका
  • दर्द और पीड़ा के लिए

 

ताड़ासन सावधानी

  • घुटने के दर्द में
  • गर्ववती महिला
  • सिर दर्द
  • कम या ज्यादा रक्तचाप

 

पवनमुक्तासन-Gas Releasing Yoga

पवनमुक्तासन शरीर से हानिकारक गैस को बहार निकालने में मदद करता है और बहुत सारी परेशानियों से बचाता है। इसके फायदे तब नजर आएंगे जब इसको सही तरीके से किया जाए। तो आइये पवनमुक्तासन करने की सही विधि सीखें।

 

पवनमुक्तासन के फायदे

  • यह पेट की चर्बी पिघालने में मदद करता है।
  • पेट से जहरीली गैसें निकालता है।
  • पाचन क्रिया को मजबूत बनाता है।
  • कब्ज को पूरी तरह से खत्म करने की ताकत रखता है।
  • रीढ़ की हड्डी को स्वस्थ रखते हुए लचीला बनाने में मदद करता है।
  • फेफड़ा को स्वस्थ रखता है।
  • इसका अभ्यास ह्रदय के फ़यदेमंद है।
  • यह एसिडिटी को कम करता है

 

सावधानी

  • कमर दर्द
  • घुटना दर्द
  • गर्दन दर्द

 

भुजंगासन-सिर से लेकर अंगुली तक को स्वस्थ रखता है

Bhujangasana

अगर भुजंगासन का सही अभ्यास किया जाए तो यह आपके शरीर को उसी तरह लचीला बनाता है जिस तरह से कोबरा में लचीलापन देखा जाता है। इस आसन के जितने भी फायदे गिनाए जाएं कम है। भुजंगासन का महत्व कुछ ज्यादा ही है क्योंकि यह सिर से लेकर पैर की अंगुलियों तक फायदा पहुंचाता है।
भुजंगासन को विभिन्य तरीके से कैसे किया जाए इसके लिए यहां पढ़े।

भुजंगासन के लाभ

  • यह आपको मधुमेह से बचाने में मदद करता है।
  • शरीर को सुडौल बनाता है।
  • शरीर के अतरिक्त चर्बी को पिघालने में मदद करता है।
  • भुजंगासन पेट की चर्बी कम करने के लिए बहुत प्रभावी है।
  • कमर दर्द कम करने के लिए यह एक बेहतरीन आसन है।
  • भुजंगासन अस्थमा के रोगियों के लिए उम्दा योगाभ्यास है।
  • हर स्त्री को इस आसन का अभ्यास करनी चाहिए।
  • थाइरोइड में लाभदायक है।
  • स्लिप डिस्क में इसका अभ्यास लाभकारी है।
  • पाचन को बढ़ाने में मदद करता है।
  • तनाव को कम करता है।

 

सावधानी

  • कमर दर्द
  • गर्ववती महिला
  • हर्निया
  • अल्सर
  • स्लिप डिस्क
  • साइटिका

 

नाड़ीशोधन प्राणायाम-एक अमृत योग

नाड़ीशोधन प्राणायाम के लाभ के बारे में जितनी भी तारीफ किया जाए कम है। इसलिए योग में इसको अमृत कहा गया है। योग मास्टर्स के अनुसार शायद ही कोई ऐसी बीमारी हो जिसमें नाड़ीशोधन प्राणायाम फायदा न पहुँचता हो। इस प्राणायाम को करना बहुत आसान है। नाड़ीशोधन की सरल विधि को जाने।

नाड़ीसोधन प्राणायाम के लाभ

  • यह आपको शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य प्रदान करता है।
  • तनाव को कम करने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • मेमोरी बढ़ाता है।
  • ध्यान और एकाग्रता में सुधार लाता है।
  • शरीर में ऊर्जा प्रवाह करने में अहम रोल प्रदान करता है।
  • मस्तिष्क में रक्त की आपूर्ति बढ़ाता है।
  • इम्युनिटी को बढ़ाने में मदद करता है।
  • उच्च रक्तचाप को कम करता है
  • शरीर से विषैले गैसों को निकलने में मदद करता है।
  • अस्थमा के लिए लाभकारी है।
  • एलर्जी को कम करता है।
  • हृदय की बीमारियां को रोकता है।

 

सावधानी

  • इसका अभ्यास खाली पेट करें
  • जल्दबाजी न करें।
  • इस योग को शांत मन से करें।

 

कपालभाति एक पूर्ण योग है

अगर कपालभाति का अभ्यास सही तरीके से किया जाए तो यह पुरे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बहुत ही अधिक प्रभावी है। इसके अभ्यास से सिर तथा मस्तिष्क की क्रियाओं को नई जान आ जाती है। इसको सही तरीके के साथ प्रैक्टिस करनी चाहिए। जानिए कैसे इसको सरल विधि से किया जाए

कपालभाति के लाभ

  • कपालभाति में हर बीमारियों को किसी न किसी तरह से रोकता है।
  • वजन घटाने में मदद करता है।
  • त्वचा के निखार में मदद करता है
  • बालों को झड़ने से रोकता है
  • अस्थमा के रोगियों के रामबाण है।
  • बलगम को दूर करता है।
  • राइनिटिस एवं साइनसाइटिस में प्रभावी है।
  • यह उदर में तंत्रिकाओं को सक्रिय करती है, उदरांगों की मालिश करती है तथा पाचन क्रिया को सुधारती है।
  • कब्ज को कम करता है।

 

सावधानी

  • हृदय रोग
  • चक्कर की समस्या
  • उच्च रक्तचाप
  • मिर्गी
  • दौरे
  • हर्निया
  • अल्सर

Recommended Articles:

Leave a Reply