डायबिटीज कंट्रोल करने के लिए 10 आसान योग

डायबिटीज एवं योग

जहाँ तक डायबिटीज का सवाल है यह एक लाइफस्टाइल से जुड़ी हुई समस्या है। धीरे धीरे डायबिटीज महामारी का रूप ले रहा है। इंडिया में लगभग 10 करोड़ लोग डायबिटीज से शिकार हो चुके है , और इतना ही बॉर्डर लाइन पर है। इस बीमारी छोटे बच्चों से लेकर बड़े बूढ़ों को अपनी ग्रिफ़त में ले रहा है। इस बीमारी से ग्रस्त है होने के कुछ मुख्य कारण जैसे सही समय पर व्यायाम न करना, गलत भोजन करना, तनावग्रस्त आधुनिक जीवनशैली इत्यादि है। डायबिटीज से ग्रस्त होने का मतलब है कि आप धीरे धीरे दूसरे बीमारियों से भी घिरने लगते हैं। इसलिए जरूरी है की सही टाइम पर इसका इलाज हो। डायबिटीज को कम्पलीट तौर पर ठीक करने के लिए योग अहम रोल अदा कर सकता है। नीचे दिए गए योगासन, प्राणायाम व ध्यान का अभ्यास करने से डायबिटीज का डट कर मुकाबला कर सकते हैं।

डायबिटीज रोकने के लिए 10 अनोखा योग

  1. शीर्षासन: शीर्षासन मधुमेह वयक्ति के लिए बहुत ही लाभदायक योग है। यह आसन अंतःस्रावी गंथियों को स्वस्थ बनाए रखते हुए इसमें रक्त का प्रवाह बढ़ता है। यह पीयूष (पिटुइटरी) ग्रंथि एवं शीर्ष ग्रंथि का कामकाज बेहतर करते हुए डायबिटीज प्रबंधन के लिए एक बेहतरीन योग है।
  2. वक्रासन: वक्रासन मधुमेह के लिए बहुत ही लाभदायक योग है। यह अग्न्याशय को सक्रिय करते हुए इन्सुलिन स्राव में अहम रोल अदा करता ही है और साथ ही साथ मधुमेह प्रबंधन में उपयोगी है।
  3. अर्द्धमत्स्येंद्रासन: ऐसा मन जाता है कि यह आसान डायबिटीज के लिए रामबाण है। इस आसन में यकृत और प्लीहा की मालिश होती है और इंसुलिन की सही मात्रा स्राव में मदद करता है। जिसके कारण मधुमेह रोगी अत्यंत लाभदायक है।
  4. मत्स्यासन: मत्स्यासन डायबिटीज के कंट्रोल में निहायत ही उत्तम माना जाता है। मधुमेह से पीड़ित महिलाओं के लिए यह उत्तम योग अभ्यास है।
  5. मयूरासन: अगर योगियों की राय ली जाय तो मयूरासन ही काफी है डायबिटीज रोकने और प्रबंधन के लिए।
  6. कपालभाति: बाबा रामदेव के अनुसार कपालभाति योग से मधुमेह का इलाज सम्भव है। यह योग पैंक्रियास के बीटा सेल्स के बनने में मदद करता है। कपालभाति शरीर को संतुलन बनाते हुए पिटुइटरी ग्रंथि को हॉर्मोन स्राव में मदद करता है। यह अग्नाशय को स्वस्थ रखते हुए इन्सुलिन के स्राव में अहम भूमिका निभाता है। यह पाचन क्रिया को मजबूत बनाते हुए मेटाबोलिज्म को संतुलित करता है।
  7. मंडूकासन: मंडूकासन आसन का सही अभ्यास करने से पैंक्रियास से इन्सुलिन का स्राव में मदद मिलती है जिससे डायबिटीज या मधुमेह को बहुत हद तक रोका जा सकता है। यह तोंद कम करते हुए पेट से संबंधित रोगों के लिए अति उत्तम है। मंडूकासन कब्ज एवं अपच से छुटकारा दिलाता है और पेट से गैस निकालने में मदद करता है।
  8. नाड़ीसोधन प्राणायाम: नाड़ीसोधन प्राणायाम चिंता एवं तनाव को कम करने के लिए रामबाण है। मानसिक शांति, ध्यान और एकाग्रता में सुधार लाने के लिए यह उत्तम प्राणायाम है। ऊर्जा प्रवाह को खोलता है, उनमें से रुकावटों को दूर करता है और पूरे शरीर में ऊर्जा का मुक्त प्रवाह करता है।
  9. उष्ट्रासन: उष्ट्रासन के अभ्यास करके आप डायबिटीज को बहुत हद तक कण्ट्रोल कर सकते हैं क्योंकि यह आपके पैंक्रियास को उत्तेजित करता है और इन्सुलिन के स्राव में मदद करता है। फेफड़े को स्वस्थ रखते हुए पाचन संबंधी समस्‍याओं में लाभकारी है।
  10. भुजंगासन : भुजंगासन पैंक्रियाज को सक्रिय करता है और सही मात्रा में इन्सुलिन के बनने में मदद करता है।

डायबिटीज के कारण

डायबिटीज के कुछ मुख्य कारण निम्नलिखित है।

  • तनाव
  • ओवरईटिंग
  • तैलीए पदार्थ सेवन
  • व्यायाम न करना
  • जेनेटिक

डायबिटीज के रिस्क फैक्टर

  • इससे किडनी ख़राब हो सकता है
  • आखों की रोशिनी जा सकती है।

डायबिटीज कंट्रोल करने के 9 अनोखे टिप्स

  1. खीरा , करेला एवं टमाटर का जूस शुगर को कंट्रोल करता है।
  2. गिलोय का काढ़ा भी लाभदायक है।
  3. ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रखना है तो अपने आहार पर ध्यान दें। अपने डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही आहार लें।
  4. अपने आहार में फाइबर बढ़ाएं। फाइबर कार्ब पाचन को धीमा करता है जो ब्लड शुगर को स्पाइक नहीं होने देता। यह डायबिटीज के मरीजों के लिए बेहद जरूरी है।
  5. रात को सोने से पहले ब्लड शुगर लेवल चेक करें, ज्यादा होने पर अपने डॉक्टर से संपर्क करें।
  6. हैवी खाना खाने से बचें।
  7. खाना खाने के बाद वॉक करें जिससे भोजन के पचने में मदद मिलती है।
  8. सुबह के समय लाइट ब्रेकफस्ट लें क्योंकि यह ब्लड शुगर बढ़ने से रोकता है।
  9. रात में खाना सोने से करीब दो से तीन घंटे पहले खाएं ताकि खाने को पचने में पूरा समय मिलें।

डायबिटीज के लिए सावधानियाँ

  1. तला-मसालेदार खाना खाने से परहेज करें।
  2. शारीरिक गतिविधियां पर ज्यादा ध्यान दें।
  3. खानपान का ध्यान रखें।
  4. ज्यादा मीठा खाना खाने से बचें।
  5. शरीर में पानी की कमी होने से शरीर में शुगर का लेवल बढ़ सकता है।
  6. मोटापा से दूर रहें।
  7. कम नींद आने से अपने डॉक्टर को दिखाएं।
  8. फास्ट फूड्स से दूरी बनाएं।
  9. मैदा और रिफाइंड ऑयल का ज्यादा इस्तेमाल ने करें।

Recommended Articles:

One Response

  1. Avatar for Admin Hari Om Rajput March 25, 2020

Leave a Reply