वीरासन विधि, लाभ और सावधानी

वीरासन क्या है-What is Virasana in Hindi?

वीरा का मतलब नायक, योद्धा, चैंपियन होता है। बैठने की यह मुद्रा घुटनों को एक साथ रखकर, पैरों को फैलाकर और हिप्स के किनारे आराम देकर की जाती है। यह मुद्रा ध्यान और प्राणायाम के लिए अच्छी है। यहां  पर हम इस योगाभ्यास के सरल विधि, लाभ और सावधानी के बारे में जिक्र करेंगे।

वीरासन विधि, लाभ और सावधानी
Virasana

वीरासन विधि-Virasana Steps in Hindi

  • सबसे पहले आप फर्श पर घुटने टेकें। घुटनों को एक साथ रखें और पैरों को लगभग 18 इंच अलग फैलाएं।
  • बटक्स को फर्श पर टिकाएं, लेकिन शरीर को पैरों पर नहीं। बल्कि जांघों के बगल में रखा जाता है।
  • कलाइयों को घुटनों पर रखें, हथेलियाँ ऊपर की ओर हों, और अंगूठे और तर्जनी की युक्तियों को मिलाएँ। अन्य अंगुलियों को फैलाकर रखें। पीठ को सीधा तानें
  • इस स्थिति में जितनी देर हो सके, गहरी सांस लेते हुए रहें।
  • अब अंगुलियों को आपस में बांध लें और हाथ को सिर के ऊपर सीधा फैला लें, हथेलियां ऊपर की ओर।
  • गहरी सांस लेते हुए इस स्थिति में एक मिनट तक रहें।
  • सामान्य सांस लेते हुए इस स्थिति में एक मिनट तक रहें।
  • श्वास लें, धड़ को ऊपर उठाएं, पैरों को आगे लाएं और आराम करें।
  • यदि आपको ऊपर बताए गए आसन को करने में कठिनाई हो रही है, तो पैरों को एक के ऊपर एक करके देखें और नितंबों को उन पर टिका दें। धीरे-धीरे पंजों को आगे की ओर ले जाएं, पैरों को अलग करें और उन्हें जांघों के बाहर आराम करने के लिए ले आएं। फिर समय आने पर नितम्ब ठीक से फर्श पर टिक जायेंगे और शरीर पैरों पर नहीं टिकेगा।

 

वीरासन के लाभ-Virasana benefits in Hindi

हम यहां पर वीरासन के कुछ महत्वपूर्ण फायदे के बारे में जिक्र करेंगे।

  • यह आसन घुटनों और गाउट के दर्द को ठीक करने में मदद करता है।
  • जिन लोगों में फ्लैट पैरों की शिकायत है , उन्हें इस आसन का अभ्यास करनी चाहिए।
  • यह टखनों और पैरों को  सही खिंचाव देता है।
  • ऊँची एड़ी के जूते या काकेनियल स्पर्स की वृद्धि से राहत देने में मदद करता है।
  • भोजन के तुरंत बाद इस मुद्रा के अभ्यास से पेट में भारीपन से राहत मिलती है।

 

कॉमन गलतियाँ-Common Mistakes in Hindi

  • ध्यान रहे कि इस मुद्रा में जल्दी मत जाएं।
  • इसको धीमे तरीके से प्रैक्टिस करें ताकि आप सुनिश्चित कर सकें कि आपका क्वाड स्ट्रेच और घुटने के जोड़ों के दर्द के बीच अंतर महसूस कर सकें।अपने बैठने की हड्डियों में अपना वजन वितरित करना सुनिश्चित करें और पैरों के शीर्ष समान रूप से फर्श में दबाने की कोशिश करें

संशोधन और बदलाव-Modifications and Variations in Hindi

  • यदि आप इस मुद्रा को प्रैक्टिस करने में असहज पाते हैं तो आप कुछ संशोधनों का उपयोग कर सकते हैं। एक बार जब आप मुद्रा के साथ सहज हो जाते हैं, तो आप इसे और अधिक चुनौतीपूर्ण बना सकते हैं।
  • आप अपनी बटक के नीचे पैडिंग लगाएं। योग ब्लॉक या मुड़ा हुआ कंबल का भी उपयोग कर सकतें हैं।  यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपको कितना ऊंचा होना चाहिए। यदि आपको कोई असुविधा हो तो आप अपनी टखनों के नीचे  पैडिंग भी रख सकते हैं।

 

वीरासन सावधानियां-Virasana precautions in Hindi

  • इस मुद्रा को करते समय घुटनों का बहुत ध्यान रखें।
  • यदि आपके घुटने में दर्द है, तो अपने घुटनों पर दबाव कम करने के लिए एक या दो ब्लॉक पर बैठकर कूल्हों को और ऊपर उठाने का प्रयास करें। यदि वह मदद नहीं करता है, तो बेहतर होगा कि इसका प्रैक्टिस न करें।
  • इसको अभ्यास करते समय पैर में ऐंठन हो सकता है। अगर ऐसा होता है, तो अपने पैर की उंगलियों को ऊपर उठाएं और इसे राहत देने के लिए अपने पैर की मालिश करें।

 

वीरासन के महत्वपूर्ण तथ्य-Virasana important facts in Hindi

जाने वीरासन के बारें में वीरासन तथ्य
मुद्रा नाम वीरासन
संस्कृत नाम वीरसन
IAST Name vīrāsana
अंग्रेजी नाम हीरो पोज
कठिनाई स्तर मध्यम
उत्पत्ति शास्त्रीय योग काल मध्यकालीन योग काल से पहले
पोजीशन बैठने की मुद्रा
टाइप स्ट्रेच
चक्र स्वादिस्थान चक्र, मूलाधार चक्र

 

 

Recommended Articles:

Leave a Comment